सैटेलाइट GSAT-6A से 48 घंटे बाद ही टूटा संपर्क, ISRO ने की पुष्टि

  • uploaded on : 2018-04-01 18:02:39
सैटेलाइट GSAT-6A से 48 घंटे बाद ही टूटा संपर्क, ISRO ने की पुष्टि
 

नई दिल्ली। श्रीहरिकोटा से गुरुवार को भारत के सबसे बड़े कम्युनिकेशन सैटलाइट GSAT-6A को लॉन्च किया गया था। इसी बीच एक बुरी खबर आई है कि GSAT-6A का 48 घंटे में ही शनिवार को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानी इसरो से अचानक संपर्क टूट गया।
इसरो की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया, 'सफलतापूर्वक काफी देर तक फायरिंग के बाद जब सैटलाइट तीसरे और अंतिम चरण के तहत 1 अप्रैल 2018 को सामान्य ऑपरेटिंग की प्रक्रिया में था, इससे हमारा संपर्क टूट गया। सैटलाइट GSAT-6A से दोबारा लिंक के लिए लगातार कोशिश की जा रही है।'
इसे भारत की अब तक की सबसे बड़ी कम्युनिकेशन सैटेलाइट माना जा रहा था। जिसमें मिलिट्री एप्लीकेशन लगे थे। इस सैटेलाइट में तकनीकी खराबी होने की आशंका जताई जा रही है। इसरो के एक सूत्र ने बताया कि ऑर्बिट से जुड़ी प्रक्रिया शनिवार सुबह 10 बजे तक सही थी, ल्क्विड एपॉजी मोटर (एलएएम) भी सही से काम कर रहा था। लेकिन इसी के कुछ मिनट बाद ही सैटलाइट के कम्यूनिकेशन में अवरोध देखा गया, जिसके बाद इसरो के शीर्ष वैज्ञानिकों ने इस पर चर्चा की।
भूस्थैतिक रॉकेट जीएसएनवी-एफ 08 के जरिये इसका प्रक्षेपण किया गया था। उपग्रह प्रक्षेपण यान ने सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से गुरुवार शाम 4.56 बजे उड़ान भरी थी। इसके लगभग 18 मिनट बाद उपग्रह को कक्षा में प्रविष्ट कराया गया। इस प्रक्षेपण यान में तीसरे चरण का स्वदेश विकसित क्रायोजेनिक इंजन लगा था। यह जीएसएलवी-एफ 08 की 12वीं उड़ान थी और स्वदेशी क्रायोजेनिक अपर स्टेज के साथ छठी उड़ान थी।
GSAT- 6A एक कम्युनिकेशन सैटेलाइट है और इसको तैयार करने में 270 करोड़ रुपए की लागत आई थी। यह उपग्रह बेहद सुदूर क्षेत्रों में भी मोबाइल संचार में मदद करेगा। इसका मुख्य तौर पर इस्तेमाल भारतीय सेना के लिए किया जाएगा।
उपग्रह के प्रक्षेपण के लिए जीएसएलवी रॉकेट में भी बदलाव किए गए थे। इसके दूसरे चरण के लिए हाई थ्रस्ट विकास इंजन लगाया गया है। इसके अलावा रॉकेट में इलेक्ट्रो हाइड्रोलिक एक्यूटेशन सिस्टम के बजाय इलेक्ट्रो केमिकल ऑटोमेशन का इस्तेमाल किया गया।
-2,140 किलोग्राम है रॉकेट का वजन।
-49.1 मीटर है इसकी लंबाई।
-6 मीटर व्यास का एंटीना लगा है।
-10 साल है इस मिशन की मियाद।