व्यक्ति साफ-सफाई में लापरवाही से बांझपन का खतरा

  • uploaded on : 2018-04-01 17:55:49
व्यक्ति साफ-सफाई में लापरवाही से बांझपन का खतरा
 

लखनऊ। महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर के मामलों में तेजी से बढ़ोत्तरी हो रही है। अफसोस की बात यह है कि इस कैंसर की आसानी से रोकथाम की जा सकती है। महिलाएं व्यक्तिगत साफ-सफाई पर ध्यान देकर सर्वाइकल कैंसर से काफी हद तक बच सकती हैं। व्यक्ति साफ-सफाई में लापरवाही बांझपन को बढ़ावा दे रही है।

कृष्णा वेलफेयर फाउंडेशन की ओर से विकासनगर में कार्यशाला का आयोजन किया गया। माहावारी के दौरान साफ-सफाई एवं प्रबंधन विषय पर कार्यशाला हुई। डॉ. माला त्रिपाठी ने कहा कि जागरुकता के बावजूद 58 प्रतिशत महिलाएं ही सेनेट्री नैपकीन्स का इस्तेमाल कर रही हैं। ग्रामीण क्षेत्रों की स्थिति तो और भी खराब है। यहां की महिलाएं 48.2 प्रतिशत महिलाएं ही सेनेट्री नैपकीन्स का प्रयोग कर रही हैं। जबकि यह आंकड़ा 100 प्रतिशत होना चाहिए। उन्होंने कहा कि महिलाओं को व्यक्तिगत साफ-सफाई के प्रति जागरुक करने के लिए अभियान चलाने की जरूरत है। सेनेट्री नैपकीन्स का वितरण मुफ्त होना चाहिए।
डॉ. केके त्रिपाठी ने कहा कि माहवारी स्वच्छता प्रबंधन के प्रति जागरुकता फैलानी चाहिए। पर, महिलाएं माहावारी को लेकर झिझक महसूस करती हैं। परेशानियों को डॉक्टरों से साझा नहीं करती है। व्यक्तिगत साफ-सफाई न होने से महिलाओं को तमाम तरह की बीमारियों हो रही है। इसमें पेशाब संबंधी परेशानी हो रही है। त्वचा व संक्रमण समेत दूसरी बीमारियां हो रही हैं। महिलाओं को बांझपन की परेशानी झेलनी पड़ सकती है।