जीसीआरजी के मुखिया ओंकार यादव का अरबों का काला साम्राज्य

  • uploaded on : 2017-10-06 17:53:42
जीसीआरजी के मुखिया ओंकार यादव का अरबों का काला साम्राज्य
 

प्रतिदिन संवाददाता लखनऊ। बीकेटी का जीसीआरजी काॅलेज सुर्खियों में है। काॅलेज के ऊपर गुरमीत सिंह उर्फ राम रहीम के डेरा सच्चा सौदा से 14 शव बिना अनुमति लाने का है।
 भले पुलिस की जांच शुरू हो चुकी है सरकार में भी इतने बड़े मामले के सामने आने से हड़कंप है खुद को पाक साफ बता रहा ये काॅलेज अरबों की काली कमाई पर खड़ा हुआ है जिसमे कई पूर्व मंत्रियों से लेकर यूपी के भ्रष्ट सहकारिता अफसरों का बेहिसाब कालाधन खपाया गया है। काॅलेज के मालिक ओंकार यादव ने भंडारण निगम से लेकर लैकफेड और संस्थागत सेवा मंडल में भर्ती घोटालों के जरिये ही आज अपनी हैसियत अरबों में खड़ी कर ली है। इसके बावजूद ईडी से लेकर आयकर महकमे और राज्य सरकार ने रिटायर हो चुके ओंकार यादव की सम्पत्तियों की जांच ही नहीं कराई। 
अखिलेश सरकार के कार्यकाल में कद्दावर मंत्री रहे शिवपाल के सबसे करीबी होने के कारण महाभ्रष्ट ओंकार यादव की तूती बोलती थी। 
जब लैकफेड में अरबों के घोटाले ने किसी एक्सप्रेस ट्रेन जैसी रफ्तार पकड़ी थी तो एमडी जीसीआरजी काॅलेज के मुखिया ओंकार यादव ही थे ये रिटायर अफसर आज यूँ ही अरबों की मिल्कियत का स्वामी नहीं बना है बल्कि व्यापमं से बड़े भर्ती घोटाले का भी जिम्मेदार है सहकारिता विभाग की भर्तियों के जिम्मेदार संस्थागत सेवा मंडल के अध्यक्ष के तौर पर लम्बे समय तक तैनात रहकर इस महाभ्रष्ट अफसर ने तत्समय करोड़ों की घूस लेकर मनमाने तरीके से अभ्यर्थियों को नौकरियां दिलवाई थी जिसकी जांच आज तक हुई ही नहीं। 
इसके बाद ये दागी शिवपाल से नजदीकियों के चलते सीधे राज्य भंडारण निगम में एमडी के पद पर बैठ गया तत्समय भी ओंकार यादव ने भर्ती घोटाले को अंजाम ही नहीं दिया बल्कि लैकफेड घोटाले के जांच अधिकारी रहे। एसआईबी के डिप्टी एसपी रहे आदित्य प्रकाश गंगवार के बेटे को जीएम के पद पर नौकरी देकर उपकृत किया और लैकफेड घोटाले की जांच को दफन कराकर असली घोटालेबाजों को क्लीनचिट दिलवाई थी सूत्रों के मुताबिक डेरा सच्चा सौदा के गुरमीत सिंह उर्फ राम रहीम के साथ पूर्व मंत्री शिवपाल सिंह कीभी भारी काली कमाई ओंकार यादव के संस्थानों में खपाई गयी है।
 बीकेटी में घोटालों के जरिए भ्रष्ट एमडी रहे ओंकार यादव ने अरबों की नामी बेनामी सम्पत्ति का साम्राज्य खड़ा कर रखा है। इटावा के रहने वाले ओंकार यादव का सबसे बड़ा इंजीनियरिंग काॅलेज जीसीआरजी बक्शी का तालाब चंद्रिका देवी रोड पर पर्वतपुर चैराहे पर बना है। करीब एक सैकड़ा बीघे में बने काॅलेज के ठीक बराबर में अरबों का जीसीआरजी मेमोरियल अस्पताल भी खुला है। सिर्फ यही नहीं अरबपति ओेंकार यादव का मन सिर्फ इंजीनियरिंग काॅलेज और अस्पताल से ही नहीं भरा बल्कि इंजीनियिरिंग काॅलेज के ठीक बराबर में करोड़ों का एक मेडिकल काॅलेज भी बनवा लिया है। स्थानीय निवासियों का कहना है कि इस इलाकें में काॅलेज के मालिक ओंकार यादव की पहचान एक बड़े अफसर ही होती आयी है। हालांकि स्थानीय निवासियों का ये भी कहना है कि उक्त भूमि करीब 50 बीघे के आस-पास है। मौजूदा वक्त में प्रति बीघा एक करोड़ से ऊपर का रेट यहां चल रहा है। चंद्रिका देवी मंदिर मार्ग पर करीब एक किमी की लंबाई में ओंकार यादव का ही साम्राज्य नजर आ रहा था। इसी दौरान स्थानीय निवासियों ने भ्रष्ट एमडी रहे ओंकार यादव की एक और अरबों की संपत्ति का खुलासा कर डाला। पर्वतपुर गांव के करीब ही स्थित कठवारा गांव में भी ओंकार यादव का करीब 100 बीघे का फार्महाउस बताया जा रहा है। जिसकी मौजूदा कीमत अरबों में है। यहां कुछ बाग भी लगे है। सपा सरकार के बेहद कद्दावर मंत्री रहे शिवपाल का पैसा भी लगे होने की चर्चा है। यही नहीं इटावा से लेकर कई शहरों में अकूत संपत्तियां बताई जा रही है। ओंकार यादव के काले सामा्रज्य की व्यापक जांच योगी सरकार ईडी और आयकर महकमे को करानी चाहिए जिसके बाद कई बड़े नेताओं और अफसरों के असली चेहरे बेनकाब हो जाएंगे वहीं मनीलांड्रिंग का भी कच्चा चिटठा सामने आते एक पल भी नहीं लगेगा।