जाधव को बचाने के लिए हबीब का अपहरण,पाक का भारत पर नया दांव

  • uploaded on : 2017-06-01 09:57:44
जाधव को बचाने के लिए हबीब का अपहरण,पाक का भारत पर नया दांव
 

नई दिल्ली कुलभूषण जाधव को लेकर जारी विवाद के बीच पाकिस्तान ने अपने लापता रिटायर्ड सैन्य अफसर लेफ्टिनेंट कर्नल मोहम्मद हबीब जहीर के बारे में भारत से जानकारी मांगी है। पाकिस्तान का कहना है कि हबीब 6 अप्रैल से नेपाल से लापता हैं। बता दें कि कुछ दिनों पहले पाकिस्तान के एक सुरक्षा अधिकारी ने स्थानीय मीडिया में बयान दिया था कि भारत ने जाधव को बचाने के लिए हबीब का अपहरण किया है। हालांकि, ऐसा पहली बार हो रहा है कि पाक अफसर के बारे में पाकिस्तान ने आधिकारिक तौर पर भारत से कोई जानकारी मांगी है। 
पाकिस्तान ने भारत के सामने हबीब के लापता होने का मुद्दा ऐसे वक्त उठाया है, जब दोनों देश भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के मामले को लेकर इंटरनैशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) में आमने-सामने हैं। जासूसी का आरोप लगाकर पाक सैन्य कोर्ट द्वारा जाधव को फांसी सुनाए जाने के फैसले पर आईसीजे की ओर से रोक लगा दिए जाने के बाद पाकिस्तान की खासी किरकिरी हुई थी। 
भारतीय अधिकारियों का कहना है कि उनके पास हबीब के बारे में कोई जानकारी नहीं है। वहीं, पाकिस्तान सरकार के सूत्रों के मुताबिक, उनकी सरकार को लगता है कि हबीब भारतीय खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड अनालिसिस विंग (R&AW) के कब्जे में है। उधर, नेपाल एंबेसी के अधिकारियों ने हमारे सहयोगी अखबार द टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि हबीब के मामले में जांच अभी जारी है। बता दें कि पाकिस्तान ने हबीब का पता लगाने के लिए नेपाल के विदेश मंत्रालय से भी संपर्क किया था। 
सूत्रों के मुताबिक, हबीब पहले पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के साथ काम करता था। लापता होने से पहले वह काठमांडू से लुंबिनी पहुंचा था। हबीब के परिवार का कहना है कि हबीब को यूएन एजेंसी की तरफ से नेपाल में नौकरी करने का ऑफर मिला था, जिसकी एवज में उसे 8500 डॉलर (लगभग 5.48 लाख रुपये) प्रति महीने की सैलरी मिलने की बात भी कही गई थी। वहीं अपुष्ट सूत्रों का कहना है कि हबीब आईएसआई के खुफिया मिशन पर नेपाल गया था। 
कुलभूषण को फांसी की सजा सुनाने के ऐलान से कुछ दिन पहले हबीब जहीर के गायब होने की खबर पाक मीडिया में आई थी। कई मीडिया रिपोर्ट्स में दोनों घटनाओं में आपसी लिंक होने की आशंका जताई थी। इसके अलावा, सोशल मीडिया पर भी यह चर्चा जोरों पर थी कि क्या अपने गायब अफसर की वजह से दबाव में आए पाकिस्तान ने आनन-फानन में कुलभूषण को फांसी देने की योजना बनाई? इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी एक खबर में बताया था कि हबीब पाकिस्तान की उस विशेष टीम का हिस्सा था, जिसने मार्च 2016 में भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को अगवा किया था। भारतीय खुफिया एजेंसियां लंबे समय से हबीब की ताक में थीं।