नार्थ कोरियाई मिसाइल की जद में अमेरिकी बेस, पढ़ें कोरिया की सैन्य ताकत

  • uploaded on : 2017-05-15 21:28:52
नार्थ कोरियाई मिसाइल की जद में अमेरिकी बेस, पढ़ें कोरिया की सैन्य ताकत
 

सोल उत्तर कोरिया ने सोमवार को कहा कि रविवार को उसकी ओर से किया गया मिसाइल परीक्षण सफल रहा है। इसके साथ ही विशेषज्ञों ने माना है कि प्रशांत महासागर स्थित अमेरिकी सैन्य ठिकाने भी उत्तर कोरिया के मिसाइल की जद में आ गए हैं। बता दें कि रविवार को उत्तर कोरिया का मिसाइल रूस की सीमा के नजदीक गिरा था। उत्तर कोरिया की सरकारी संवाद एजेंसी केसीएनए न्यूज एजेंसी ने बताया कि रविवार का प्रक्षेपण हाल ही में विकसित मध्यम-लंबी दूरी की मारक क्षमता वाले रणनीतिक बैलेस्टिक रॉकेट हवासोंग-12 का था। इसपर देश के सर्वोच्च कमांडर किम जोंग उन ने स्वयं नजर रखी। एजेंसी ने दावा किया कि रविवार को प्रक्षेपित की गई मिसाइल 2,111.5 किलोमीटर की ऊंचाई तक गई और जापान सागर में गिरने से पहले 787 किलोमीटर की दूरी तय की। विशेषज्ञों ने भी माना कि पहले के कई असफल प्रयासों के मुकाबले रविवार को किया गया प्रक्षेपण अधिक शक्तिशाली और सफलता के करीब है। उनके मुताबिक इस मिसाइल की मारक क्षमता 4500 किलोमीटर या इससे अधिक हो सकती है। 
अमेरिका के मिडलबरी इंस्टीटयूट ऑफ इंटरनेशनल स्ट्डीज के जेफरी लेविस ने बताया कि रविवार को प्योंगयांग की ओर से प्रक्षेपित किया गया सबसे लंबी रेंज वाला मिसाइल है। एक वेबसाइट 38 नॉर्थ पर एयरोस्पेस इंजीनियिरिंग विशेषज्ञ जॉन सिचलिंग ने कहा है कि यह मध्यमदूरी की क्षमता वाली बैलिस्टिक मिसाइल प्रतीत होती है जो कि गुआम के अमेरिकी बेस तक हमला करने में सक्षम है।
उत्तर कोरिया का कहना है कि उसे आत्मरक्षा के लिए परमाणु हथियारों की जरूरत है। लेकिन समझा जाता है कि वह अमेरिका तक परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम मिसाइल विकसित करना चाहता है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ऐसा नहीं होने देने का संकल्प जाहिर किया है। 
डोनाल्ड ट्रंप के अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के बाद से अमेरिका और उत्तर कोरिया के पहले से तल्ख रिश्तों में और कटुता आ गई है। ट्रंप ने साफ कर दिया है कि उत्तर कोरिया को परमाणु हथियार विकसित करने से रोकने के लिए वह सैन्य कार्रवाई भी करने पर विचार कर रहे हैं। वहीं,उत्तर कोरिया ने धमकी दी है कि किसी भी हमले की प्रतिक्रिया विनाशक होगी।